KeyLogger Kya Hai? Keylogger Kaise Work Karta Hai

जैसा आप सभी जानते है कि आज के टाइम में सबसे ज्यादा काम इन्टरनेट के द्वारा ही किया जाता है| इंटरनेट वह जगह है, जहां 21 वीं सदी का सारा ज्ञान और मनोरंजन है। जैसे ही आप अपने विश्वसनीय डिजिटल समाचार पत्र में समाचार पढ़ रहे होते हैं जैसे स्ट्रीमिंग में अपनी टीम का खेल देखना या वीडियो सोशल नेटवर्क पर ट्यूटोरियल देखना।

लेकिन इन्टरनेट पर हमेशा आपके साथ अच्छा नही होता है| इन्टरनेट का इस्तेमाल करते समय आप किसी भी कारण से एक खतरनाक वायरस का शिकार हो सकते है| जिससे आप बेखबर होने के कारण उससे बच नही सकते हो| इसी तरह के वायरस यानि आज मैं आपको KeyLogger Kya Hai? और Keylogger se kaise bacha jaye? इसके बारे में बताने वाला हूँ|

Silent Virus Kya hota hai:-

साइलेंट वायरस क्या है जैसा आपको पता है ही होगा कि नेटवर्क पर प्रसारित होने वाले malicious codes सबसे अधिक विविध होते हैं। साइलेंट वायरस के कारण ही सभी को यही चिंता सताती रहती है कि उनका कंप्यूटर किसी भी साइलेंट वायरस के द्वारा हेंग न हो जाए| इसके आलावा यूजर को लगता है उनका कंप्यूटर किसी हैकर के द्वारा रिमोट कण्ट्रोल कर लिया जायेगा|

लेकिन मैं आपको बता दूँ कि इन सभी से डरावना भी होता है जो आपकी अनुमति के बिना आपके डेटा तक पहुंच जाएगा। वास्तव में, वर्तमान में रैंसमवेयर सबसे अधिक आशंका वाला वायरस है, क्योंकि यह आपकी मशीन के अपहरण की तरह काम करता है जिसे केवल हैकर की मांगों का भुगतान करके समाप्त किया जाएगा,

Keylogger Kya Hai? कीलॉगर क्या है?

इन सभी वायरस के आलावा भी  कुछ अन्य वायरस भी हैं जो इनसे ज्यादा खतरनाक हैं|  उनमें से एक वायरस  keylogger है। यह एक कंप्यूटर वायरस है जो यदि आपके कंप्यूटर में प्रवेश कर लेता है तो वह आपके कीबोर्ड के प्रत्येक और प्रत्येक कीस्ट्रोक्स को रिकॉर्ड कर लेता है। कीलॉगर मुख्य उद्देश्य आपके सभी महत्वपूर्ण अकाउंट के पासवर्ड को चुराना होता है|

मान लो कि आप अपने कंप्यूटर(कीलॉगर इनस्टॉल) से ही अपने किस बैंक अकाउंट को ओपन करने के लिए कीबोर्ड से पासवर्ड इंटर करते हो| आपने जो पासवर्ड कीबोर्ड में इंटर किया है वही पासवर्ड किसी दुसरे के पास भी पहुच गया है| जिससे वह आपके अकाउंट को एक्सेस कर सकता है| जिससे आप बहुत बड़े खतरे में पड़ सकते हो|

KeyLogger Kya Hai?
KeyLogger Kya Hai?

KeyLogger Se Kaise Bache? कीलॉगर से कैसे बचे:-

जैसा कि मैंने आपको पहले ही बता दिया है कि किस किस प्रकार के वायरस होते है और वे कैसे काम करते हैं, अब परेशानी की बात यह है कि हम इनसे कैसे बच सकते है? कीलॉगर और सभी प्रकार के वायरस से बचने के लिए सबसे अच्छा तरीका अपने कंप्यूटर में एक अच्छा एंटीवायरस इनस्टॉल करना होगा| इसके आलावा इन वायरस को डिटेक्टर की मदद से ढूढा जा सकता है यह सभी डिटेक्टर मार्किट में आपको मिल जायेंगे|

इसके आलावा कीलॉगर जैसे वायरस से बचने के लिए आपको अपने सभी प्रकार के अकाउंट में 2-चरणीय सत्यापन को इनेबल करना होगा| जिससे यदि आपका अकाउंट किसी भी तरह से हैक हो जाता है तो उसे ओपन करने के लिए एक कोड की जरूरत होगी| जिसके बिना आपके अकाउंट को कोई दूसरा ओपन नही कर सकता है| 2-चरणीय सत्यापन से आप अधिक सेफ महसूस करते है|

कीलॉगर से बचने के लिए सबसे अच्छा तरीका यह भी हो सकता है कि आप अपने किसी भी अकाउंट को ओपन करने के लिए जब कीबोर्ड का इस्तेमाल करे तो फिजिकल कीबोर्ड की जगह आप कंप्यूटर इनस्टॉल वर्चुअल कीबोर्ड का इस्तेमाल करे| ऐसा करने से कीलॉगर आपके कीस्ट्रोक को कॉपी नही कर पायेगा और आप हैक होने से बच जाओगे|

अंत में आपको कीलॉगर  जैसे खतरनाक वायरस से बचने के लिए आपको एक सलाह ओर सलाह देना चाहूँगा कि आप अपने डिवाइस में पासवर्ड मेनेजर का इस्तेमाल करे | इससे आपको हर बार पासवर्ड को कीबोर्ड की मदद से लिखना नही पड़ेगा| इसी से आप कीलॉगर  से बच सकते हो|

अब आप समझ गए होंगे कि कीलॉगर  क्या है और कैसे काम करता है| यदि आपको हमारी इस पोस्ट से रिलेटेड कोई भी question करना हो तो आप हमें कमेंट सेक्शन में बता सकते हो| जिससे हम आपकी समस्या को solve कर सके |

मैं आशा करता हूँ कि आपको हमारी यह पोस्ट कीलॉगर पसंद आई होगी| यदि आप इसी तरह की हैकिंग से रिलेटेड कोई भी पोस्ट प्राप्त करना चाहते हो तो हमें सब्सक्राइब कर सकते हो |

1 thought on “KeyLogger Kya Hai? Keylogger Kaise Work Karta Hai”

Leave a Comment